Saturday, 3 November 2018

स्वस्तिक बनाने की सही विधि एवं महत्त्व क्या हैं ?


प्रिय पाठक, आज हम आपको स्वास्तिक बनने की सही विधि के विषय मैं बताने जा रहे हैं। दोस्तो अक्क्षर लोग स्वास्तिक को बीच से काट कर बनाते हैं क्या आप जानते है की यह विधि गलत हैं और इसी कारण हमें इसका पूर्ण परिणाम प्राप्त नहीं होता हैं ।

गणेश पुराण के अनुसार स्वस्तिक को भगवान श्रीगणेश का स्वरूप माना गया हैं। इस चिन्ह में प्रत्येक विध्नों अौर अमंगल का नाश करने के गुण हैं। स्वस्तिक को हिंदू धर्म में ही नहीं अपितु सभी धर्मों में पवित्र माना गया हैं। पुराणों में स्वस्तिक को देवी लक्ष्मी का प्रतीक माना हैं। स्वस्तिक का चिन्ह बनाने से घर में धन अौर सकारात्मक ऊर्जा का आगमन होती हैं। घर में भिन्न प्रकार से स्वस्तिक बनाने से सुख-शांति, व्यापार में उन्नति अौर सौभाग्य में वृद्धि होती हैं।

No comments:

Post a comment